उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से भीषण त्रासदी हुई है। 7 की मौत 170 लापता

उत्तराखंड के चमोली जिले के रैणी में आई आपदा को लेकर  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि बचाव और राहत कार्य सरकार की पहली प्राथमिकता है, इसमें पूरी क्षमता से काम किया जा रहा है। राहत और बचाव कार्य अब भी जारी है.

चमोली में आई आपदा में कम से कम 170 लोगों के लापता होने की जानकारी है। सात शव बरामद कर लिए गए हैं। नुकसान का आकलन जारी है, जबकि कारण भी पता लगाया जा रहा है। वहीं, उन्होंने आपदा में मृतकों के परिवार को चार-चार लाख रुपये देने की घोषणा की है।

स्थानीय लोगों के हताहत होने की जानकारी नहीं
मुख्यमंत्री ने बताया कि जल विद्युत परियोजनाओं में काम करने वाले स्थानीय लोग रविवार होने के कारण अवकाश पर थे। रैणी गांव के एक भेड़ पालक की भेड़ आपदा की भेंट चढ़ने की जानकारी है।

यह भी पढ़ें  फ्री में मिल रहा है SBI क्रेडिट कार्ड यहां से करें अप्लाई सिर्फ 500 कार्ड जल्द अप्लाई करें

सोशल मीडिया से मिली जानकारी
मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें सबसे पहले सोशल मीडिया से जानकारी मिली और अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की। आपदा के समय संवाद का स्तर बेहतर रहा और राहत एवं बचाव टीम तुरंत सक्रिय हुईं। 

Team AI News
Author: Team AI News

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares