जानिए कब मनेगी होली लग चुका है होलाष्टक . इन दिनों में क्या नहीं करना चाहिए ??

भारत में मनाए जाने वाले सबसे शानदार त्योहारों में से एक है होली। हिंदुओं के लिए होली का पौराणिक महत्व भी है। इस त्योहार को लेकर सबसे प्रचलित है प्रहलाद, होलिका और हिरण्यकश्यप की कहानी। लेकिन होली की केवल यही नहीं बल्कि और भी कई कहानियां प्रचलित है। वैष्णव परंपरा मे होली को, होलिका-प्रहलाद की कहानी का प्रतीकात्मक सूत्र मानते हैं।

लोक मान्यता के अनुसार कुछ तीर्थस्थान जैसे शतरुद्रा, विपाशा, इरावती एवं पुष्कर सरोवर के अलावा बाकी सब स्थानों पर होलाष्टक का अशुभ प्रभाव नहीं होता है होलिका दहन, होली त्योहार का पहला दिन, फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसके अगले दिन रंगों से खेलने की परंपरा है जिसे धुलेंडी, धुलंडी और धूलि आदि नामों से भी जाना जाता है।

होली बुराई पर अच्छाई की विजय के उपलक्ष्य में मनाई जाती है। होलिका दहन (जिसे छोटी होली भी कहते हैं) के अगले दिन पूर्ण हर्षोल्लास के साथ रंग खेलने का विधान है और अबीर-गुलाल आदि एक-दूसरे को लगाकर व गले मिलकर इस पर्व को मनाया जाता है।

होली के आठ दिन पूर्व से होलाष्टक मनाया जाता है मान्यता है कि होलाष्टक की शुरुआत वाले दिन ही शिव जी ने कामदेव को भस्म कर दिया था. इस काल में हर दिन अलग-अलग ग्रह उग्र रूप में होते हैं. इस काल में हर दिन अलग अलग ग्रह उग्र रूप में होते हैं अतः इसमें शुभ कार्य नहीं करते हैं होलाष्टक में शुभ कार्य नहीं करते , परन्तु जन्म और मृत्यु के पश्चात किये जाने वाले कार्य कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें  करवा चौथ हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। आइये जानतें हैं तिथि व शुभ पूजा मुहूर्त

होलाष्टक के दौरान ना करें ये काम

होलाष्टक के 8 दिन किसी भी मांगलिक शुभ कार्य को करने के लिए शुभ नहीं होता है. इस दौरान शादी, भूमि पूजन, गृह प्रवेश, मांगलिक कार्य, कोई भी नया व्यवसाय या नया काम शुरू करने से बचना चाहिए. शास्त्रों के अनुसार, होलाष्टक शुरू होने के साथ ही 16 संस्कार जैसे नामकरण संस्कार, जनेऊ संस्कार, गृह प्रवेश, विवाह संस्कार जैसे शुभ कार्यों पर रोक लग जाती है.

किसी भी प्रकार का हवन, यज्ञ कर्म भी इन दिनों में नहीं किया जाता है. इसके अलावा नवविवाहिताओं को इन दिनों में मायके में रहने की सलाह दी जाती है.

Vipin Kumar
Author: Vipin Kumar

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares