जानिए किस महान गणितज्ञ के निधन के बाद उनका पार्थिव शरीर अस्‍पताल के बाहर पड़ा रहा

महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का आज गुरुवार को पटना में निधन हो गया. 40 साल से मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया से पीड़ित वशिष्ठ नारायण सिंह पिछले काफी दिनों से बीमार चल रहे थे. वह 74 साल के थे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनके निधन पर शोक जताया है.

पटना में महान गणितज्ञ वशिष्‍ठ नारायण सिंह के निधन के बाद पटना मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल प्रशासन की ओर से लापरवाही की घटना सामने आई है. वशिष्ठ नारायण का पार्थिव शरीर करीब एक घंटे तक एंबुलेंस के इंतजार में अस्‍पताल के बाहर पड़ा रहा.

महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह पटना के कुल्हरिया काम्पलेक्स में अपने परिवार के साथ रहते थे. पिछले कुछ दिनों से वह बीमार थे और तबीयत खराब होने के बाद परिजन उन्हें पीएमसीएच लेकर गए, लेकिन डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. वहीं परिजनों का आरोप है कि उनके मृत्यु के 2 घंटे के बाद एम्बुलेंस उपलध कराया गया.

इस आरोप के बारे में पीएमसीएच के अधीक्षक राजीव रंजन प्रसाद ने कि उन्हें जैसे ही सूचना मिली तुरंत एंबुलेंस उपलब्ध करवाई गई.

आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती

गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह ने महान वैज्ञानिक आइंस्टीन के सापेक्षता के सिद्धांत को चुनौती दी थी. उनके बारे में मशहूर है कि नासा में अपोलो की लांचिंग से पहले जब 31 कंप्यूटर कुछ समय के लिए बंद हो गए तो कंप्यूटर ठीक होने पर उनका और कंप्यूटर्स का कैलकुलेशन एक जैसा ही था.

यह भी पढ़ें  सुबह खाली पेट चाय पीने के कारण, आप खतरनाक बीमारी के शिकार हो सकते हैं

लोगों ने वशिष्ठ को बताया असली हीरो…

कुमार विश्वास ने ट्वीट करके कहा उफ़्फ़, इतनी विराट प्रतिभा की ऐसी उपेक्षा? विश्व जिसकी मेधा का लोहा माना उसके प्रति उसी का बिहार इतना पत्थर हो गया? आप सबसे सवाल बनता हैं ! भारतमाँ क्यूँ सौंपे ऐसे मेधावी बेटे इस देश को जब हम उन्हें सम्भाल ही न सकें?

शादी के बाद कितना कितना कठिन था नारायण का जीवन

सिंह का विवाह वर्ष 1973 में वंदना रानी सिंह के साथ हुआ. करीब एक साल बाद वर्ष 1974 में उन्हें पहला दौरा पड़ा. परिजनों ने उनका इलाज कराया गया लेकिन जब उनकी तबीयत ठीक नहीं हुई, तो उन्हें 1976 में रांची में भर्ती कराया गया. बीमारी के कारण उनके असामान्य व्यवहार से परेशान होकर उनकी पत्नी ने उनसे तलाक तक ले लिया.

निर्धन परिवार से होने और आर्थिक तंगी में जीवन व्यतीत करने वाले सिंह वर्ष 1987 में अपने गांव लौट आए और यहीं रहने लगे. करीब दो साल बाद वर्ष 1989 में वह अचानक लापता हो गये. परिजनों ने उन्हें ढूंढने की काफी कोशिश की लेकिन वह नहीं मिले. करीब चार साल बाद वर्ष 1993 में वह सारण जिले के डोरीगंज में पाये गये थे.

राजधानी पटना के कुल्हड़यिा कॉम्पलेक्स में अपने भाई के एक फ्लैट में गुमनामी का जीवन बिताते रहे महान गणितज्ञ के अंतिम समय तक के सबसे अच्छे मित्र किताब, कॉपी और पेंसिल ही रहे.  सिंह ने अपने जीवन के 44 साल मानसिक बीमारी सिजेफ्रेनिया में गुजारा। उनके बारे में मशहूर किस्सा है कि नासा में अपोलो की लॉन्चिंग से पहले जब 31 कंप्यूटर कुछ समय के लिए बंद हो गए तो कंप्यूटर ठीक होने पर उनका और कंप्यूटर का कैलकुलेशन एक समान था.

1969 में कैलिफोर्निया से PHD

यह भी पढ़ें  जानिए खूनी दरवाजे बाला अटेर का किला , जो चंबल नदी के किनारें बीहड़ों के बीच में स्थित है

गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह ने 1969 में कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से पीएचडी की डिग्री हासिल की. इसके बाद वह वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर बन गए. वशिष्ठ नारायण ने नासा में भी काम किया, लेकिन वह 1971 में भारत लौट आए.

भारत लौटने के बाद वशिष्ठ नारायण ने आईआईटी कानपुर, आईआईटी बंबई और आईएसआई कोलकाता में नौकरी की. 1973 में उनकी शादी हो गई. शादी के कुछ समय बाद वह मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया से पीड़ित हो गए. इस बीमारी से ग्रसित होने के बाद उनकी पत्नी ने उनसे तलाक ले लिया. 

Team AI News
Author: Team AI News

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares